Questions and Answers Regarding Rajasthan Service Rules

प्रश्न:- पेंशन की गणना विधि की जानकारी दीजिये(Pension Rules for Rajasthan Government Employees)।

उत्तर:-  नियमानुसार सेवानिवृति पर न्यूनतम 10 वर्ष की पेंशन योग्य सेवा पूर्ण करने पर मासिक पेंशन मिलती है। 10 वर्ष से कम की पेंशन योग्य सेवा होने पर केवल एकमुश्त ग्रेच्युटी ही मिलती है।

पेंशन की गणना विधि को हम इन चार बिंदुओं से भलीभांति समझ सकते हैं।

(क) 30-6-2013 तक सेवानिवृत्त कार्मिक को 33 वर्ष की अर्हक सेवा करने पर वेतन की 50 प्रतिशत पेंशन देय होगी।

(ख) 1-7-2013 व इसके पश्चात 28 वर्ष या अधिक अवधि की सेवा पूर्ण करने पर देय मासिक पेंशन:-  उपरोक्त मामले में सेवानिवृति के ठीक पूर्व कार्मिक की परिलाभों (दिनांक 1-9-2006) से राज्य में अधिकतम वेतन सीमा 77000/- रुपये थी जो  दिनांक 1-1-2016 से 218600/- रुपये हो गई है) के 50% के बराबर मासिक पेंशन देय होगी। उदाहरणार्थ यदि कुल परिलब्धियां 80200/- रुपये प्रतिमाह हो तो पेंशन 50% यानि 40100/- प्रतिमाह होगी।

(ग) 1-7-2013 व इसके पश्चात सेवानिवृत्त होने वाले राज्यकर्मी की 28 वर्ष से कम किंतु 10 वर्ष या अधिक अवधि की पेंशन योग्य सेवा पूर्ण करने पर:-

इसमे पेंशन का फार्मूला निम्न प्रकार है।

परिलब्धियां/2 * पूरे किए गए छ माही के खण्ड/56

उदाहरण:- कुल परिलब्धियां 80200 है कुल सेवाकाल 22 वर्ष है तो अनुपातिक पेंशन 80200/2* 44/56=31508 रुपये प्रतिमाह पेंशन होगी।

नोट 1:- 1-1-2016 या इसके पश्चात सेवानिवृत्त कार्मिक के लिए गणना करने पर पेंशन/ पारिवारिक पेंशन यदि 8850/- रुपये से कम आती है तो न्यूनतम पेंशन 8850/- प्रतिमाह देय होगी।

नोट 2:- दिनांक 1-9-1996 से न्यूनतम/पारिवारिक पेंशन 1275 रुपये थी। दिनांक 1-7-2004 से मूल वेतन में 50% महंगाई भत्ता वेतन में महंगाई वेतन के रूप में समाहित करने पर न्यूनतम पेंशन/ पारिवारिक पेंशन 1913/- रुपये हो गई तथा दिनांक 1-1-2006 से पुनरीक्षित वेतनमान 2008 लागू होने पर  न्यूनतम पेंशन/ पारिवारिक पेंशन 3025/- प्रतिमाह कर दी गई जिसका नकद लाभ दिनांक 1-1-2007 से देय रहा है। 1-7-2013 से न्यूनतम पेंशन/पारिवारिक पेंशन 3450/- प्रतिमाह थी जो 1-1-2016 से 8850/- रुपये  हो गई। (नकद लाभ 1-1-2017 से देय)

नोट 3:- राज्य सरकार ने संशोधित वेतनमान नियम क. F.12(6)FD/rules/2017 दिनांक 30-10-2017 से जारी किए जिन्हें 1-10-2017 से लागू किया गया था। पुनः समसंख्यक आदेश दिनांक 9-12-2017 से इन्हें 1-1-2016 से लागू किया गया। दिनांक 1-1-2016 से 31-12-2016 तक कि अवधि का कोई एरियर भुगतान देय नही है अर्थात नकद लाभ दिनांक 1-1- 2017 से ही देय होगा।

नोट 4:- वेतन की अधिकतम सीमा 218600/- दिनांक 1-1-2016 से लागू मानी गई है।

(घ) 10 वर्ष से कम अवधि की सेवा होने पर देय एकमुश्त सेवा उपादान-

यदि कोई कार्मिक 10 वर्ष की पेंशन योग्य सेवा पूर्ण करने से पूर्व ही सेवानिवृत हो जाता है तो उसे मासिक पेंशन नही मिलेगी बल्कि केवल एकमुश्त राशि सेवा उपादान (ग्रेच्यूटी) के रूप में प्राप्त होगी जो प्रत्येक छः माही सेवा अवधि के लिए आधे माह की परिलब्धि की दर से संगणित की जाएगी। (नियम 54(1))

प्रश्न :क्या चाइल्ड केयर लिव पुरुष कार्मिक (Childcare Leave Rules for Rajasthan Government Employees) को भी देय है? हाँ तो कब l

उत्तर : हाँ, चाइल्ड केयर लिव पुरुष कार्मिक को दिया जाता है – यदि पुरुष कार्मिक एकल हो जैसे विधुर या तलाकशुदा हो तो नियमानुसार संपूर्ण सेवा काल में दो सन्तान पर 730 दिवस के लिए दिया जा सकता है l

DDO द्वारा अपने स्तर पर स्वीकृत किये जा सकने वाले अवकाश एवं उनकी अधिकतम अवधि –

राजस्थान सेवा नियमो के अंतर्गत निम्न प्रकार के अवकाश DDO स्तर पर स्वीकृत किये जा सकते हैं यह सामान्य जानकारी शेयर की जा रही है विस्तृत दिशा निर्देश हेतु RSR के नियम देखे।

(1) उपार्जित अवकाश:- सेवा नियम 91 (3) के अनुसार DDO एक समय में 120 दिनों तक यह अवकाश स्वीकृत कर सकते है।

(2) समर्पित अवकाश:- नियम 91 (A) के अनुसार एक वित्तीय वर्ष में 15 दिन का समर्पित किया जा सकता है। अवकाश नगद भुगतान के लिए के किसी भी कार्मिक के DDO द्वारा स्वीकृत किया जा सकता है।

(3) सेवानिवृति पर शेष जमा अवकाश का नगद भुगतान:- नियम 91(B) के अनुसार सेवानिवृति पर अनुपयोजित उपार्जित अवकाश के एवज में अधिकतम 300 दिन PL का नगद भुगतान हेतु DDO द्वारा स्वीकृत किया जाता है।   (4) अर्द्ध वेतन अवकाश (HPL):-नियम 93 (A) के अनुसार निजी किसी कारण से या चिकित्सा कारण से 120 दिन तक का अर्द्धवेतन अवकाश (HPL) DDO द्वारा स्वीकृत किया जा सकता है। इसमें अर्द्ध वेतन का नियमानुसार भुगतान किया जाता है।

(5) रूपांतरित अवकाश (commuted leave):-नियम 93 (B) के अनुसार स्थाई सेवा के कार्मिक के चिकित्सा प्रमाण पत्र के आधार पर अर्द्ध वेतन अवकाश को रूपांतरित अवकाश में परिवर्तित कर 120 दिन तक का यह अवकाश DDO द्वारा स्वीकृत किया जा सकता है। किसी कार्मिक के रूपांतरित अवकाश स्वीकृत करने पर उसके दुगनी संख्या में अवकाश के दिनों को HPL लेखा मे से घटाया ( डेविट) किया जाता है एवम कार्मिक को full pay के हिसाब से वेतन का भुगतान प्राप्त होता है। नियुक्ति तिथि के 3 वर्ष बाद यह अवकाश स्वीकृत किया जाता है (नियम 93 (4))

(6) अदेय अवकाश (Leave not due):- स्थाई कार्मिक के निम्न शर्तों पर अदेय अवकाश एक बार में 90 दिनों तक ही Ddo द्वारा स्वीकृत किया जा सकता है इसके साथ ही यदि Hpl पहले की जमा हो तो 120 तक Ddo सेक्शन कर सकते है।

संपूर्ण सेवाकाल में अधिकतम 360 दिनों तक स्वीकृत किया जा सकता है, जिसमें से 180 दिन का अदेय अवकाश चिकित्सा प्रमाण पत्र के आधार पर एवं शेष 180 दिन अन्य आधार पर स्वीकृत किया जा सकता है जो निदेशालय से स्वीकृत किया जायेगा।

(1) सक्षम अधिकारी के संतुष्ट होने पर की कर्मचारी अदेय अवकाश के बाद सेवा पर वापिस उपस्थित हो जाएगा।
(2) अदेय अवकाश की संख्या उस अनुपातिक संख्या से अधिक नहीं होगी जो कर्मचारी अवकाश से वापस आ कर उतनी संख्या में HPL अर्जित कर सके।
(3) अदेय अवकाश स्वीकृत किये जाने पर वह कर्मचारी के HPL खाते में माईनस में (डेबिट) लिखा जाएगा जिसका समायोजन भविष्य में अर्जित HPL से होता रहेगा।
(4) इस अवकाश में कार्मिक को अर्द्ध वेतन की दर से वेतन का भुगतान किया जाता है।

(7) असाधारण अवकाश (Extra ordinary leave):- स्थाई कार्मिक के चिकित्सा या कोई पाठ्य क्रम पूरा करने के लिए एक समय मे तीन महीने से 18 माह तक असाधारण अवकाश स्वीकृत किया जा सकता है। जिसने एक साथ तीन महीने से अधिक का असाधारण अवकाश वित्त विभाग की पूर्व सहमति से उक्त शिथिलता के बाद ही स्वीकृत किया जा सकता है। DDO स्तर पर 120 दिनों तक यह अवकाश स्वीकृत किया जा सकता है।
चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी के असाधारण अवकाश की स्वीकृति के लिए DDO 120 दिनो से अधिक अवधि की सेक्शन भी कर सकते है।
प्रोबेशनकाल में 30 दिन तक का असाधारण अवकाश नियुक्ति अधिकारी एवं उससे अधिक अवधि का प्रशासनिक विभाग द्वारा स्वीकृत किया जाता है।

(8) मातृत्व अवकाश:- सेवा नियम 103 के अनुसार स्थाई कार्मिक एवं प्रोबेशनर कार्मिक को चिकित्सक के प्रमाण पत्र के आधार पर 180 दिन का मातृत्व अवकाश DDO द्वारा स्वीकृत किया जाता है।  

(9) पितृत्व अवकाश:- सेवा नियम 103 (A) के अनुसार स्थाई कार्मिक एवं प्रोबेशनर कार्मिक को पत्नी की प्रसुति से 15 दिन पूर्व से प्रसुति के तीन माह की अवधि में पुरुष कार्मिक को 15 दिन का पितृत्व अवकाश पत्नी की देख भाल हेतु DDO द्वारा स्वीकृत किया जाता है जो बच्चे के जन्म प्रमाण पत्र के आधार पर स्वीकृत होता है।

(10) चाइल्ड केयर लीव (CCL) वित्त विभाग के आदेश दिनांक 22/05/2018 एवं 10/09/2018 के अनुसार महिला कर्मिको को चाइल्ड केयर लिय की सुविधा प्रदान की गई है। उक्त 120 दिनो तक की चाइल्ड केयर लीव Ddo द्वारा स्वीकृत की जा सकती है।

प्रश्न:PM श्री योजना (PM Shree Yojna) क्या है ? इसके आवेदन प्रक्रिया के बारे में बताए।

उतर: -हमारे देश के प्रधानमंत्री जी ने पुराने स्कूलों को एक नया स्वरूप देने एवं बच्चों को स्मार्ट शिक्षा से जोड़ने के लिए एक नई योजना को शुरू करने की घोषणा की है। इस योजना का नाम PM SHRI Yojana है। जिसे शुरू करने की घोषणा प्रधानमंत्री जी ने 5 सितंबर 2022 की है।
➡️केन्द्र प्रवर्तित नवीन पीएमश्री (PM Schools for Rising India) योजना अन्तर्गत प्रत्येक ब्लॉक से दो विद्यालयों का चयन किया जाना है।
➡️इस योजना में वे ही विद्यालय आवेदन कर सकेंगे जिनकी सूची Bench Mark विद्यालयों के रूप में प्रदर्शित हो रही है।
➡️विद्यालयों द्वारा आवेदन करने की समस्त प्रक्रिया स्वतः अग्रेषित होती रहेगी जिसे प्रक्रिया के अंतिम चरण में Submit करना होगा।
➡️ विद्यालयों द्वारा इस नवीन योजना के अन्तर्गत ऑनलाइन आवेदन की अंतिम तिथि 30.11.2022 है।
➡️पीएम श्री योजना के तहत चयन के लिए, केवल प्राथमिक उच्च प्राथमिक विद्यालय (कक्षा 1-5/1-8) और माध्यमिक / सीनियर केंद्र/राज्य/केंद्र शासित प्रदेश की सरकारों/स्थानीय स्व-सरकारों द्वारा प्रबंधित माध्यमिक विद्यालयों (कक्षा 1-10/1-12/6-10/6-12) पर विचार किया जाएगा।
➡️शहरी क्षेत्रों के स्कूलों को न्यूनतम 70% स्कोर करने की आवश्यकता है, जबकि ग्रामीण क्षेत्रों के स्कूलों को पीएम श्री स्कूलों के रूप में चुने जाने के लिए न्यूनतम 60% स्कोर करने की आवश्यकता है।
आवेदन प्रक्रिया-
➡️सबसे पहले गूगल में वेबसाइट https://pmshrischools.education.gov.in पर जाना है।
➡️उक्त वेबसाइट पे pmshri स्कूल लॉगिन पर क्लिक करना उसके बाद udise कोड और रजिस्टर्ड मोबाइल no डालना है उसके बाद otp आयेगा कैप्चा डालने के बाद लॉगिन होते ही स्कूल की पूरी डिटेल दिखाई देगी।
➡️इस पोर्टल में विद्यालय से रिलेटेड कुल 7 सेक्शन(A से G)होंगे जिसमे कुछ qustions होंगे,उनको पूरा करना है इनको पूरा करने पर मार्क्स stutus इत्यादि शो होंगे।
➡️इसके बाद स्कूल के बैक और फ्रंट इमेज और सरपंच या लोकल बॉडी और prncipal का लेटर जो 500kb से कम का हो अपलोड करना है। इसके बाद otp द्वारा फाइनल सबमिट करना है।